crimeDehradunEducationScienceUttarakhand

CSIR की ऑनलाइन परीक्षा में हाईटेक नकल, 04 गिरफ्तार, रिमोट एक्सेस से करा रहे थे पर्चा सॉल्व

एसओ और एएसओ की ऑनलाइन परीक्षा में नकल के लिए एनी डेस्क एप का सहारा, सर्वर से अलग से लीज भी जोड़ी गई

Listen to this article

Amit Bhatt, Dehradun: काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च (CSIR) के अंतर्गत एसओ (सेक्शन ऑफिसर) और एएसओ (असिस्टेंट सेक्शन ऑफिसर) की भर्ती परीक्षा में हाईटेक तरीके से नकल कराए जाने का खुलासा दून पुलिस ने किया है। राजपुर और डोईवाला के केंद्रों में ऑनलाइन माध्यम से कराई जा रही भर्ती परीक्षा (05 फरवरी से 17 फरवरी तक) में नकल माफिया ने परीक्षा केंद्रों के संचालकों के साथ मिलीभगत कर पर्चा सॉल्व (प्रश्नपत्र हल) कराने के लिए रिमोट एक्सेस का इंतजाम किया गया था। इसके लिए सर्वर से अलग से लीज लाइन तक जोड़ी गई थी।

इस हाईटेक नकल का खुलासा करते हुए दून पुलिस ने चार आरोपियों संदीप पुत्र बृजवीर सिंह, निवासी ग्राम सोहजनी, थाना जानसठ, जिला मुजफ्फरनगर, उत्तर प्रदेश (राजपुर पुलिस द्वारा), अंकित धीमान पुत्र ओमप्रकाश, निवासी जीवना, थाना मंसूरपुर, जिला मुजफ्फरनगर, उत्तरप्रदेश, हाल पता-लेन-2, सिद्धपुरम कालोनी, हर्रावाला, डोईवाला, देहरादून (राजपुर पुलिस द्वारा), आशीष बहुगुणा पुत्र नत्थीलाल बहुगुणा, निवासी पामसिटी, पटेलनगर, देहरादून (डोईवाला पुलिस द्वारा) व अर्जुन उर्फ मोनू पुत्र जगराज निवासी ग्राम भवार, सोनीपत, हरियाणा (डोईवाला पुलिस द्वारा) को गिरफ्तार किया है। साथ ही मोहित व दीपक नाम के व्यक्तियों की तलाश की जा रही है। नकल गिरोह के तार दिल्ली तथा अन्य राज्यों से जुड़े होने की जानकारी भी पुलिस को मिली है। जिस पर संबंधित क्षेत्रों की पुलिस को सूचित कर आगे की कार्रवाई भी शुरू कर दी गई है।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) देहरादून अजय सिंह को गोपनीय जानकारी मिली थी कि विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय भारत सरकार के सीएसआईआर के माध्यम से कराई जा रही एसओ तथा एएसओ के पदों की भर्ती परीक्षा में हाईटेक माध्यम से नकल कराई जा रही है। इस सूचना पर पुलिस ने राजपुर तथा डोईवाला क्षेत्र के दो अलग-अलग परीक्षा केंद्रों पर छापा मारा। जहां पुलिस टीम को दोनो परीक्षा केंद्रों में मुख्य लैब के सर्वर रूम से अलग कमरे में चोरी से जोड़ी गई लीज लाइनें मिली। जिन्हें नकल माफिया ने संस्थान के संचालकों से मिलीभगत कर अभ्यर्थियों को ऑनलाइन नकल कराने के लिए परीक्षा से पूर्व ही जोड़ दिया गया था। लीज लाइनों के माध्यम से नकल माफिया आनलाइन परीक्षा का एक्सेस प्राप्त कर परीक्षा के प्रश्नों को साल्व कर उनके उत्तर परीक्षार्थियों को उपलब्ध करा रहे थे। दोनो परीक्षा केंद्रों से अभ्यर्थियों को नकल करा रहे 04 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया, जिनसे पूछताछ में 02 अन्य अभियुक्तों के नाम प्रकाश में आए हैं।

इस संबंध में थाना राजपुर पर उपनिरीक्षक शोएब अली की ओर से दी गई तहरीर के आधार पर मु.अ.सं0-27/24, धारा 419, 420, 120 बी भा.द.वि. व 66 डीआईटी एक्ट तथा कोतवाली डोईवाला पर वरिष्ठ उपनिरीक्षक दीपक रावत की तहरीर के आधार पर मु.अ.सं. 43/24, धारा 420, 120 बी भा.द.वि. का अभियोग पंजीकृत किया गया है। दोनो परीक्षा केंद्रों से पुलिस टीम ने नकल में प्रयोग किए जा रहे सीपीयू, लैपटाॅप, मॉनीटर व अन्य इलेक्ट्रानिक साक्ष्यों को कब्जे में लिया। आरोपियों से पूछताछ में पुलिस को कई अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां प्राप्त हुई हैं, जिनके संबंध में तफ्तीश जारी है।

एनी डेस्क एप से कर रहे थे रिमोट एक्सेस
पूछताछ में गिरफ्तार अभियुक्त अंकित धीमान ने बताया गया कि मोहित तथा दीपक उक्त सेंटर को चलाते हैं, जिनके द्वारा परीक्षार्थियों से पैसा लेकर सिस्टम को हैक कर किसी अन्य व्यक्ति से पेपर को साल्व कराया जाता है। इसके लिए उनके द्वारा कंप्यूटर सिस्टम को हैक करने के लिए एनी डेस्क एप व अन्य एप का प्रयोग किया जाता है। जिसके लिए लिए वह परीक्षा केंद्र के सर्वर रूम से एक लेन केबल के माध्यम से लैपटाप अथवा सिस्टम को जोड़ा जाता है। साथ उस लैपटाप या सिस्टम के माध्यम से अलग-अलग व्यक्तियों (साल्वर) को बुलाकर पेपर रिमोट एक्सेस के माध्यम से साल्व कराए जाते हैं। पुलिस को पूछताछ में यह भी पता चला कि परीक्षा के लिए परीक्षार्थियों से संपर्क करने की जिम्मेदारी दीपक की होती है। दीपक ही परीक्षार्थियों से संपर्क कर उन्हें परीक्षा केंद्रों के संबंध में अवगत कराता है। उसके बाद परीक्षा के दौरान कम्प्यूटरों को हैक करने तथा परिक्षार्थियों से पैसे लेने की पूर्ण जिम्मेदारी मोहित की होती है। काम होने जाने के बाद दीपक और मोहित बाकी को उनके हिस्से के पैसे दे देते हैं। एक दिन पूर्व ही उनके द्वारा एक महिला परीक्षार्थी का पेपर साल्व करवाया गया था तथा आज भी 02 अन्य परीक्षार्थियों के पेपर साल्व कराए जाने थे, पर मोहित के ना आने के कारण वह उस काम को नहीं कर पाए।

अंकित धीमा की तलाश दिल्ली क्राइम ब्रांच को, दून पुलिस ने पकड़ लिया
एसएसपी अजय सिंह के मुताबिक अभियुक्त अंकित धीमान के विरुद्ध दिल्ली के क्राइम ब्रांच थाने में इसी प्रकार परिक्षाओं में नकल कराने के संबंध में मु.अ.सं. 103/22 धारा: 419, 420, 120 बी भा.द.वि. तथा 66 आईटी एक्ट का अभियोग पंजीकृत है, जिसमें दिल्ली पुलिस अभियुक्त की तलाश कर रही है। हालांकि, दिल्ली पुलिस को छकाने के बाद शातिर अंकित को दून पुलिस ने दबोच लिया।

यह की गई बरामदगी
01: 02 सीपीयू-डेल कंपनी
02: 01 लैपटाॅप-एचपी कंपनी
03: केबल लाइन
04: डीजे केबल

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button